फिर एक बार's image
73K

फिर एक बार

जब मैं नववधू बनकर आई थी तेरे द्वार,

मन में भर लाई थी सुंदर सपने हजार,


घर के आंगन में सुनहरी धूप बिखरी थीं,

पल भर के लिए , उसे छूने को , मैं ठहरी थी,


मन में एक तस्वीर गढ़ा था,

जिस पर तुम्हारा रंग चढ़ा था,


नज़र भर देखा, जब तुमने मुझे पहली बार,

दिल गई मैं, तुझपर सजन उसी पल हार,


ह्रदय में थे अनगिनत सपने,

पूरा करने का वचन दिया था तुमने,


तुमने सारे खूबसूरत वादें निभाए

Read More! Earn More! Learn More!