लहरें ये झूठ की's image
102K

लहरें ये झूठ की

लहरें ये झूठ की

हर बार ही कोशिश करती

सच के किनारों पे ही जा गिरती,

साजिश हर बात पे और साँसों में भी लिपटी

है थोड़ी सी सहमी पर खुद को ‘सच’ ही कहती,

स्याह और काली सी

हर दिल में अब जो बसती

Tag: poetry और2 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!