नज़दीकियां's image
245K

नज़दीकियां

नजदीकियाँ इतनी की खलने लगे है

शर्ते मोहब्बत की बदलने लगे है

जो न बदलते हम तो जीते भी कैसे 

चाहत की हद में वो बदलने लगे है


बदलने का चलन कोई नया तो नही

दुनिया अब आदाओं पे मरने लगे है

गुमान है उनको भी हस्ती का अपने

शराफत में वो अब बदलने लगे हैं


बीते दिन झरोखे भी सुने पड़े है 

हुई शाम पर्दो में चलने लगे है 

मिलो जो कभी "रा

Read More! Earn More! Learn More!