जिंदगी एक नशा's image
97K

जिंदगी एक नशा

जिंदगी भी अब इक नशा सी है 

कुछ खुश तो कुछ ख़फ़ा सी है

जुर्म किसकी अब कैसे बताये 

रूठ कर कुछ बेवफा सी है 


बीते पलो को अब कब तक रोए

आज फिर क्यों इधर आज़ा सी है

बहुत सताये गए थे वो शायद 

सिर पर जिनके आज क़ज़ा सी है 


अलग अलग नशा है यहाँ जहां में

हर किसी को कुछ गुमान सी है 

किसकी है इतनी बिसात यहाँ पर 

देख लेने को बाकी आसमान भी है


नशे में फिर भूल जाना ही है बेहतर 

यादो का क्या है बदगुमान सी है

होश वालो से जा कर के तो पूछो

दर्द ही "राज" अब तो दवा सी है&nb

Read More! Earn More! Learn More!