तुम्हारा साथ's image
264K

तुम्हारा साथ



रात थे साथ तुम 

हम थे बातों में गुम 

आप बीती सुनी 

और सुनाते रहे 

भूले बिसरे कई 

याद आते रहे । 


जब ये देखा तुम्हें 

नींद आने को है 

धुंध छाने लगी 

भोर होने को है 

हम भी चुप हो गए 

जागते ही रहे।&nb

Read More! Earn More! Learn More!