ओस की बूंद's image
242K

ओस की बूंद

दूब की नोक पर

ओस की बूंद थी 

जो इधर से उधर 

कांपती, डोलती 

झूलती, झूमती 

मुस्कराती रही । 


भोर होने को थी 

स्धच्छ आकाश की 

लालिमा बढ़ चली 

फिर किरण सूर्य की 

बूंद पर आ पड़ी 

श्वेत मोती बनी 

झिलमिला

Read More! Earn More! Learn More!