Aaj Fir Ek Baar Uska Khwaab Chala Aaya - Rahul verma (Rv)'s image
Love PoetryPoetry1 min read

Aaj Fir Ek Baar Uska Khwaab Chala Aaya - Rahul verma (Rv)

Rahul verma (Rv)Rahul verma (Rv) April 24, 2023
Share0 Bookmarks 64913 Reads0 Likes

आज फिर एक बार 

उसका ख्वाब चला आया,

मैंने फिर एक बार 

अपनी आंखों में अश्क पाया।

कोशिश तो कि पोंछ लु इन्हें,

पर मैंने अपने शरीर को बेजान पाया।।


हां...

लगाई काफ़ी आवाज 

मैंने खुदको,

शायद मज़ाक छोड़ 

बोलेगा मुझे कुछ तो।

न हिला और न कुछ बोला, 

बस मुझे चुप चाप उहि सुनता रहा,

हां... 

जिसे समझ रहा था 

अभी तक मैं कोई सपना, 

सच में छोड़ चुका था 

शरीर अब मैं अपना।।


सोचा की मेरा शरीर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts