ख़्वाहिशें's image
Share0 Bookmarks 60860 Reads0 Likes

आख़िर तादाद कितनी है

कुछ भी ख़बर नहीं

और न ख़्याल आया कभी

कि पता करूँ इनके बारे में

मगर यक़ीनन तय है

इनकी तादाद बेशुमार होगी।

यक़ीनन कह सकता हूं

ये अलग-अलग मज़हब के है

उम्र के अलग-अलग पड़ाव पर

अलग-अलग रंग रूपों के

अलग-अलग मिज़ाज के

बेबसी से देखते रहते हैं

बिना शिकायत किए

तंग बंद कमरे के झरोखों से

जहां अंधेरे का क़ब्ज़ा है

जहां ये स

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts