जब जब सोचता हूं's image
77K

जब जब सोचता हूं

ख़ामोश सूनी अनदेखी

अनजानी उन राहों पर

जहाँ बेहिस थकी ये ज़ीस्त

अकेले ही सफ़र करती है

जहाँ ढ़ल कर कोई शम्अ

इक रोज ठिठक जाती है

और सब कुछ सिलवटों में

तबदील होता चला जाता है

पर्दे पे हर चीजें मुंज़मिद

होती चली जाती है

और फिर अचानक कहीं से

इक आवाज आती है-“अब चलो”

और मुसलसल इसी जारी सफ़र से

एक नए सफ़र का आगाज होता है

कहाँ ? किधर ? किस ओर

कोई नहीं जानता

है कोई ये जन्नत

या है जहन्नुम कोई

या दरमयाँ है कोई इक ख़ला

कुछ भी पुख़्ता दिखता नहीं

जब जब सोचता हूं

इस मौत और ज़िंदगी के बारे में

Read More! Earn More! Learn More!