'शब्दबोध''s image
Share0 Bookmarks 211589 Reads0 Likes

घृणा क्रोध विध्वंस द्रोह 

स्वार्थों की लोलुपता!

सद्वृत्तियों का ह्रास व 

अधिकारों की लिप्सा!!


मानव इनमें फँसकर–

अपना ही सबकुछ 

खोता रहता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts