प्रतीक्षा's image
81K

प्रतीक्षा

प्रयागराज जंक्शन पे

मिली वो एक दिन –

प्रतीक्षालय में  !

मुस्कुराकर पूछा  उसने –

तुम्हें याद है ? 

हम कब और कहाँ मिले थे ?

शायद जले पे नमक छिड़का उसने

मैंने उत्तर दिया- हाँ, भूला नहीं हूँ मैं

हम काशी के कैंट जंक्शन पे–

मिले थे–  प्रतीक्षालय में !

और ,तभी से  प्रतीक्षारत हैं
Read More! Earn More! Learn More!