परिधिमुक्त मैं सत्य सनातन's image
93K

परिधिमुक्त मैं सत्य सनातन

नभमण्डल से भूमण्डल तक
दशों दिशाओं से ऊपर उठ 
मैं ही जीवन का शाश्वत-पथ
सत्य सनातन ! सत्य सनातन !

गूँज रहा जय-गान सत्य का हृदय – उदधि में !
नाच  उठे  हैं  प्राण ! सनातन उर – अंतर में !
दया - भाव ! करूणा अपार !पलता है मन में ।
स्वधर्म–गान ! परधर्म – मान !रहता है मन में !
सत्य – सनातन धर्म  सदा  जमता है  मन में !

उत्थान – पतन के चरम -बिंदु देखे  हैं हमने !
आतंकी आक्
Read More! Earn More! Learn More!