निष्क्रियता साक्षात् मृत्यु है !'s image
79K

निष्क्रियता साक्षात् मृत्यु है !

अन्न के बीजों में कुछ मरे हुए अन्न के दाने भी होते हैं ।
खेतों में सभी बीजों को पुष्ट करने के लिये , उन्हें उगने के लिए पर्याप्त उर्वरक प्रदान किये जाते हैं ।
अनाज के अधिकांश दानों में पोषण प्राप्त करने की अदम्य क्षमता और ललक  होती है । 
स्पस्ट है कि पोषण प्राप्त दाने, सभी के लिए पोषण के कारण बनते हैं , स्वास्थ्य की अभिवृद्धि में लाभकारी होने की भूमिका निभाते है ।

कुछ ऐसे दाने जिनको 'मरे हुए दाने' कहा जाता है।ये अच्छे दानों के साथ आ जाते हैं । खाते समय मुँह को , दाँतों को क्षतिग्रस्त कर देते हैं। 
इन्हें भी पोषण के लिए अवसर ,सहयोग और वातावरण दिया जाता है परंतु वे आगे बढ़कर अवसर प्राप्त करने में असमर्थ होते हैं । इसलिए धीरे -धीरे कमजोर होकर मर जाते हैं ।
 ये दाने मरे क्यों ?जबकि इन्हें भी पुष्ट होने के लिए समुचित अवसर ,सहयोग एवं वातावरण मिला था । परन्तु ये निष्क्रिय रहे । इनकी निष्क्रियता ही इनकी दुर्गति एवं अवनति  का कारण बनी ।

निष्क्रिय दाने हों या निष्क्रिय व्यक्ति सभी के लिए फूल नहीं , शूल बन जाते है । दुर्गति का कारण बन जाते हैं ।

मनुष्य जब अपनी जिम्मेदारियों , अपने कार्यों के प्रति निष्क्रिय हो जाता है तब वह सभी तरह क
Read More! Earn More! Learn More!