ख़ामोश ज़िन्दगी's image
MotivationalPoetry1 min read

ख़ामोश ज़िन्दगी

R N ShuklaR N Shukla January 11, 2022
Share0 Bookmarks 60089 Reads1 Likes
घटती उम्र! बढ़ती तृष्णाएं!
मौन हो चलती रहती है 
जिन्दगी!

भीतर ही भीतर 
कभी बर्फ-सी जमती है
कभी पिघलती  है तो–
किसी सूरत-ए हाल में–
महक कर बहक जाती है
जिंदगी!

एक अनाम द्वंद्व को चुप-चाप
ढ़ोती हुई जीती-जाती है,
कभी हँसती है,कभी गाती है, तो
कभी रो-रोकर पागल हो जाती है
जिन्दगी!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts