जिंदगी और पल's image
Poetry1 min read

जिंदगी और पल

R N ShuklaR N Shukla March 30, 2023
Share0 Bookmarks 62179 Reads0 Likes
घड़ी हाथ में ,
घड़ी बँधी है ,
क्षण से ।
क्षण,
मुक्त है घड़ी से ।
और जिंदगी ,
बँधी है क्षण से ।

घड़ी हाथ में बाँध चला 
ताक़ि 
समय के साथ 
चल सकूँ पल-पल !
घड़ी तो बंध गई,
क्षण को कैसे बांधू ?
छोटी-सी जिंदगी !
और– क्षण?अगणित !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts