आ भी जाओ कि चाँद छुपने को है !'s image
99K

आ भी जाओ कि चाँद छुपने को है !

मुद्दतों हुए तुमसे मिले मुझे ,

इक तेरी याद है कि जाती ही नहीं ।

गुमाँ बहुत था मुझे; तुझे भूल जाने का ,

पर , ये दिल भी क्या चीज़ है कि भूलता ही नहीं
Read More! Earn More! Learn More!