अर्ज़ से उठ कर अफ़लाक छूने आया हूं's image
75K

अर्ज़ से उठ कर अफ़लाक छूने आया हूं

अर्ज़ से उठ कर अफ़लाक छूने आया हूं
अमावश से बाहर निकलो तुम्हें महताब बनाने आया हूं

ख़ुद को मैं आफताब हरगिज़ नहीं समझता
मगर अपने नूर से तुम्हें और निखारने आया
Read More! Earn More! Learn More!