जिस रस्ते पर's image
82K

जिस रस्ते पर

जिस रस्ते पर चलना था वो रस्ता खो चुका हूॅं मैं
कर दो ऐलान बस्ती में नाकाम हो चुका हूॅं मैं

हुई अब नींद भी दुश्मन नहीं है ख़्वाब भी आते
ऑंखें भी हैं धुॅंधलाई पलकें भिगो चुका हूॅं मैं

नहीं है ये कोई अंज़ाम ये है इब्तिदा-ए-ज़ीस्त
दिल में प्यास मंज़िल की अभी से बो चुका हूॅं मैं<
Read More! Earn More! Learn More!