एक ग़ज़ल यार के लिए's image
93K

एक ग़ज़ल यार के लिए

सोचा लिखूं इक ग़ज़ल अपने यार के लिए
कुछ तारीफ़ भी लिख दूं एक बार के लिए

मैं सियह आसमां सा, वो चांद तारे हैं मेरे
फिर चाहे जैसे हैं वो इस संसार के लिए

ज़माने भर से गुमशुदा रहने की आदत है
मेरे यार हीं काफ़ी हैं मेरे ऐतबार के लिए

Tag: शायरी और2 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!