भटक रहा हूँ कब से's image
93K

भटक रहा हूँ कब से


अब इस सब्र का कोई सिला मिले

तुम मिलो या तुम्हें भूल जाने की दवा मिले


हमारे हिस्से ही क्यों हो हर बेकरारी

थोड़ा तुम भी तड़पो

तुम्हें भी उल्फ़त की सज़ा मिले


हम दो घड़ी मसरूफ़ क्या हुए

इतना भी एतबार न

Read More! Earn More! Learn More!