शायद उसे फ़िर मेरी याद आई है's image
272K

शायद उसे फ़िर मेरी याद आई है

सुना है वो आज फिर वही किताब साफ़ कर रही है

जिसे हाँथ में लेकर कॉलेज जाती थी ,

शायद उसे फ़िर मेरी याद आयी है।

हाँ वही क़िताब जिसमें ग़ुलाब रखती थी मेरे दिये हुए

धूल जितनी क़िताब से हटी उससे कहीं ज्यादा आज मन से हटायी है

शायद उसे फिर मेरी याद आई है।

हाँ अश्क़ भी छलकते दे

Read More! Earn More! Learn More!