दीवानी's image
287K

दीवानी

जिसका मैं दीवाना था,

कहाँ मुझे पहचाना था।


बदन हवेली था उसका,

मैं भी इक तहख़ाना था।


तूफ़ानों की आँखों में,

झाँका तो वीराना था।


ज़िद थी उसकी मैं ठहरूँ,

Read More! Earn More! Learn More!