वो दिन और मन's image
Share0 Bookmarks 48834 Reads2 Likes

वो दिन भी कितने अच्छे थे

जब गाँव में घर सब कच्चे थे

भूख-प्यास सब भूले थे

जब नीम की डाल पे झूले थे

खूब बिजलियाँ गिरती थीं

वो जब पनघट पर पानी भरती थी

फागुन की मस्त हवाओ में

एक नशा तैरता रहता था

रंग से नहलाने भाभी को

देवर घात लगाये बैठा रहता था

सरसो के पीले फुलों में

मधुर रागनी घुलती थी

तीतली के कोमल पंखों से

कहाँ नजर हमारी हटती थी

खेतों की कच्ची पगडंडी पर

संग बाबा के रोटियाँ खाते थे

बड़ी लम्बी दौड़ लगाते थे

जब बाग से आम चुराते थे


आह!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts