पाकीज़ा (शायरी - कामिल)'s image
Love PoetryPoetry3 min read

पाकीज़ा (शायरी - कामिल)

KamilKamil February 2, 2022
Share0 Bookmarks 64903 Reads3 Likes

तू पाकीज़ा है, तेरी हर आदत की तर

---

आज एक दफा तफ़्सील-ए-हयात करने बैठे,

जो कुछ हासिल किया और उसे याद करने बैठे;

---

दिल में रह-रह कर धुआँ सा उठता है,

कभी तेरे होने का सबूत मिलता है;

साँस खींचू अगर तो हवा करती है,

उठते धुएँ में फिर धुआँ करती है;

---

एक अर्से समेटी शोहरत अज्दाद ने,

हम रोज़-ब-रोज़ उसे बदनाम किए हुए हैं;

रोज़ी-रोटी दाना-पानी सब छोड़ छाड़ कर,

तेरी हसरत में जिंदगी हराम किए हुए हैं,

---

एक इश्क़ मुकम्मल होता है, दीदार-ए-सनम से यहाँ,

हर रोज़ बिना इज़हार हुए,

एक दिल क़त्ल होता है, मिज़ाज-ए-सनम से यहाँ,

हर रोज़ बिना इंकार हुए;

---

​मेरे अंदर झाँक के देख तुझे क्या दिखता है,

तेरा अक्स दिखता है, या मेरा इख़्तिताम दिखता है;

---

बस फिर उसने पलकें झुका लीं,

और दोबारा हमें जीना याद आ गया;

---

कभी चाँद, कभी तारे, कभी आसमाँ की ख्वाहिश होती है,

तेरे इश्क ने दूर- दराज़ों की, चाहत रखना सिखा दीया;

---

हसरत-ए-सनम बसरत-ए-तन्हाई

तरस किसकी किस्मत पर हो, हम अक्सर ये सोचा करते हैं;

---

तेरे दिल में नहीं तो न सही,

मेरा दिल काफी है हम दोनों के लिए;

---

तुझे देख में साँसें लेना भी भूल गया,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts