यक़ीनों में's image
85K

यक़ीनों में

झूठ बदला है अब यक़ीनों में

साँप बैठा है आस्तीनों में


आदमी आदमी नहीं है अब

बदल के रह गया मशीनों में


रब की मौजूदगी है रूहों में

न ही मंदिर में न मदीनों में


रंग में,रूप में ख़्यालों में

हम ने बाँटा है ख़ुद को दीनों में


ख़ुद हैं किरदार भी,तमाशा भी

ख़ुद खड़े हैं तमाश-बीनों में


हमने जायदादें नहीं बाँटी

Tag: poetry और4 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!