ख़्वाहिश में's image
Poetry1 min read

ख़्वाहिश में

Nivedan KumarNivedan Kumar January 28, 2023
Share0 Bookmarks 69917 Reads1 Likes

एक अदद ज़िंदगी की ख़्वाहिश में

आ गए ज़िस्म की नुमाइश में


भटकते ही रहे हैं सारी उम्र

बंजारे कब रहे रिहाइश में


बदलनी है जिन्हें तक़दीर अपनी

लगे हैं ज़ोर-आजमाइश में


आपका ही भला है लगता है

सचमुच आप की सिफारिश में


वक्त कुछ दिन के बाद बदलेगा

अभी सितारे आपके हैं गर्दिश में


Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts