एक गांव मेरे अंदर's image
95K

एक गांव मेरे अंदर

मेरे अंदर 
आज भी है एक गांव
जहां आज भी हैं मिट्टी के घर
मिट्टी के रास्ते

जहां आज भी चौपाल लगतीं हैं
हुक्के गुड़ गुड़ करते हैं

रात को आँगन में कई खाट 
एक साथ लगा दी जाती हैं
और आपस में बाते करते करते
हम कब सो जाते हैं, पता ही नहीं चलता

जहां आज भी घंटियों की आवाज़ें आती हैं
दूर कहीं मंदिरों से नहीं,&
Tag: Kavishala और1 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!