अकेला चाँद's image
Share0 Bookmarks 59498 Reads4 Likes

कहीं दूर अपने गांव ,  

खाट पर बैठा है एक चाँद।

सहस्त्र सितारों के होते भी, 

आज अकेला बैठा चाँद ।

शायद किसी की यादों में ,

खोया- खोया लगता चाँद।

आज उदासी ऐसी छाई ,  

लोरी में नहीं जाता चाँद ।


क्या हुआ ? तू गुमसुम क्यूँ है?  

क्या ऐसे अच्छा लगता चाँद !

आ जा तुझे घूमा दूँ मैं ,   

छोटा-सा प्यारा अपना गांव।

अलाव जला हम काटेंगे ,

<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts