किताबें's image
Share0 Bookmarks 260713 Reads0 Likes

अकेलेपन की सच्ची साथी, होती भाई किताबें,

ज्ञान का सागर घुमड़-घुमड़कर ढोती भाई किताबें।

 

सारी मुश्किल-सवाल सारे, पलभर में निपटाएँ,

हरपल-हरदम साथ निभाकर, सचमुच मन को भाएँ।

 

कहती मुझमें ही खो जाओ, करना नहीं बहाना,

अजब-अनोखी दुनिया का मैं, दूँगी नया खजाना।

 

जो कुछ भी तुम जान न पाते, सबका भेद बताऊँ,

<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts