आओ मन की परतें खोलें...'s image
298K

आओ मन की परतें खोलें...

लाल-लाल से बादल ऊपर,

और नीचे धानी सी चादर,

दूर क्षितिज पर ढलता सूरज,

क्या कहता है हौले-हौले।

आओ मन की परतें खोलें।


जिनका जीवन है पहाड़ सा,

पर चेहरों पर मुस्कानें हैं,

उन मुस्कानों की मिठास को,

आओ अपने संग संजो लें।

आओ मन की परतें खोलें।


Read More! Earn More! Learn More!