मुख़्तार तुम's image
268K

मुख़्तार तुम



              
राह के पत्थर से थे बेकार तुम,
फ़र्ज़ जब समझे बने मुख़्तार तुम।

हो गए लाचार बूढ़े बाप जब,
छोड़ना उनको न यूँ बीमार तुम।

माँ तुम्हारी रोज़ सपने बुन रही,
ख़्वाहिशों के बन गए अम्बार तुम।

नफ़रतों की आग में क्यूँ घिर गए?
Read More! Earn More! Learn More!