ख़ुमारी ए दौलत ना शोहरत का नशा...'s image
Poetry1 min read

ख़ुमारी ए दौलत ना शोहरत का नशा...

NawabzadaNawabzada December 5, 2021
Share0 Bookmarks 187388 Reads1 Likes

ख़ुमारी ए दौलत ना शोहरत का नशा...



इन्सान हूँ इंसानियत की तलब है

किसी खुदाई का तलबगार नहीं हूँ,


ख़ुमारी ए दौलत ना शोहरत का नशा

अबतक किसी का ख़तावार नहीं हूँ,


ख़िदमत ए वालिदैन फ़र्ज़ है मुझ पर

सिवाय औरो का तीमारदार नहीं हूँ,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts