देश ही मज़हब's image
81K

देश ही मज़हब

ये देश अपना मज़हब हुआ करता था,
फिर क्यूं मेरा मज़हब - मेरा मज़हब,
का सार हम इंसानों ने छेड़ा है,
रहने दिया होता हमारे देश को एक ही रंग में,
क्यूं रंगों में ख़ुद
Read More! Earn More! Learn More!