तहरीर-ए-इबारत में नहीं मुमकिन दर्दे-दिल को बयाँ करना's image
96K

तहरीर-ए-इबारत में नहीं मुमकिन दर्दे-दिल को बयाँ करना

तहरीर-ए-इबारत में नहीं मुमकिन दर्दे-दिल को बयाँ करना

बातें हैं सब बे-मानी दर्द-ए-पिन्हा की

Read More! Earn More! Learn More!