सांसें चलने तक बशर अरमानों का अंत नहीं होता's image
82K

सांसें चलने तक बशर अरमानों का अंत नहीं होता

दुनिया-ए-फ़ानी में आकर यहाँ कोई संत नहीं होता

सांसें चल

Read More! Earn More! Learn More!