सब्र-ओ-सुकूँ बशर को दिला सके वो जगह नहीं बनी's image
Poetry1 min read

सब्र-ओ-सुकूँ बशर को दिला सके वो जगह नहीं बनी

Nathuram KaswanNathuram Kaswan May 13, 2023
Share0 Bookmarks 64588 Reads0 Likes

दुनिया-जहाँ के रंजो-ग़म भुला सके वो मय नहीं बनी

मुकम्मल तमाम ख़्वाहिशें करा सके वो शय नहीं बनी

सरज़मी के सिवाय बहिश्त नहीं बन

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts