जिगर के ज़ख़्मों पर मिरे किसी की नज़र क्यूं नहीं जाती's image
92K

जिगर के ज़ख़्मों पर मिरे किसी की नज़र क्यूं नहीं जाती

जिगर के ज़ख़्मों पर मिरे बशर किसी की नज़र क्यूं नहीं जाती

वस्ल-ए-यार है सदाक़त तो सदा मुझ तक मग़र क्यूं नहीं आती

कारवां हबीब का मेरे कबका चल पड़ाथा म

Read More! Earn More! Learn More!