हयात-ए-मुस्त'आर जमाने में बशर अपनी कुछ ऐसे गुज़र गई's image
Poetry1 min read

हयात-ए-मुस्त'आर जमाने में बशर अपनी कुछ ऐसे गुज़र गई

Nathuram KaswanNathuram Kaswan April 14, 2023
Share0 Bookmarks 62192 Reads0 Likes

हयात-ए-मुस्त'आर जमाने में बशर अपनी कुछ ऐसे गुज़र गई 

ख्वाहिशें थीं तो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts