सावन's image
Share0 Bookmarks 63276 Reads0 Likes

किसी दिलजले प्रेमी सा

सावन तू छुपकर क्यों आता है? 

जब मीत मेरा परदेश में है

तब तुझको क्या ये भाता है ?


क्या कर लूंगी मैं तेरी

गीली रूमानी बरसातों में?

डर से किस से लिपटूंग

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts