बेरुखी जिंदगानी's image
Poetry1 min read

बेरुखी जिंदगानी

nakamyab_writernakamyab_writer December 15, 2022
Share0 Bookmarks 60863 Reads1 Likes
पता है दिलों की मासूमियत शब्दों में बयां नहीं करते,
हाले-ए-दिल के जज़्बात यूं ज़ाया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts