सोचा कि कवि बनूँ मैं!'s image
95K

सोचा कि कवि बनूँ मैं!

मन में उत्कंठा हुई
कि कवि बनूँ मैं! 
किंतु हृदय में तनिक भाव न था
कि कवि बनूँ मैं! 
फिर भी अवचेतन मन में था 
कि कवि बनूँ मैं! 
करने मन की अभिलाषा पूर्ण मैं
चला काव्य के पथ पर मैं
किंतु शब्दों के फेर में फंस गया मैं
शब्द अलंकृत करने के चक्कर में
शब्द को ही भूल गया मैं
फिर भी मन में उमंग थी 
Read More! Earn More! Learn More!