इसे आसक्ति कहूँ या अनासक्ति....'s image
Poetry1 min read

इसे आसक्ति कहूँ या अनासक्ति....

Mukesh jangidMukesh jangid February 7, 2023
Share1 Bookmarks 61973 Reads1 Likes
साधु, संत और फकीर को
संसार कहता अनासक्त हैं
क्योंकि ये सांसारिकता के प्रति अनासक्त हैं
लेकिन फिर भी मेरी दृष्टि में वे अनासक्त नहीं
अनुरक्त हैं,आसक्त हैं
क्योंकि वे ईश्वर के भक्त हैं
उन्हीं के प्रति अनुरक्त हैं,आसक्त हैं
इसलिए इसे आसक्ति कहूँ या अनासक्ति..... 

फिर मैं तो साधारण मनुज हूँ
गृहस्थी में , सांसारिकता में लिप्त हूँ मैं
अनुरक्त हूँ मैं,आसक्त हूँ मैं
किं

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts