अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं's image
93K

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं

आओ मुहब्बत को एक बार संभल कर देखते हैं


चाँद तारे फूल शबनम सब रखते हैं एक तरफ

महबूब-ए-नज़र पे इस बार मर कर देखते हैं


जिस्म की भूख तो रोज कई घर उजाड़ देती है

हम रूह-ओ-रवाँ को अपनी जान कर के देखते हैं


Read More! Earn More! Learn More!