तुम प्रेम हो मेरी's image
248K

तुम प्रेम हो मेरी

तुम प्रेम हो मेरी,

हो संगिनी प्यारी।

तुम बिन अधूरा तेरा साथी,

अधूरा मेरा सपना सुंदर।

हो आंखों की चमक चांदनी,

तुम सरल स्पंदन हृदय तरंगिनी।


मै बहता पानी,

तुम मीठी झील सुहानी।

हु मैं तुमसे वक्त रवानी,

खोना चाहु तुमसे अपनी,

हर जिंदगी जवानी ढलती कहानी।


ओ प्रेम प्रिए,

मेरी पूरी कहानी।

एक डाल में जैसे हम दो,

Read More! Earn More! Learn More!