पीताम्बर

*******'s image
102K

पीताम्बर *******


कुछ ऐसा हो ये बसंत 
हर्षित मन हो, पुलकित हृदय 
खुशियां मिलें अनन्त 
कुछ ऐसा हो....

ऐसा हो मौसम का फेरा 
फूलों का पहना हो सेहरा 
अलियों-कलियों के मधुर प्रणय में 
जीवन हो खुशियों का डेरा

खिले-खिले हों सबके चेहरे 
हो दुःखों का अन्त 
कुछ ऐसा हो.....

खेतों में सरसों यूँ खड़ी हो 
Read More! Earn More! Learn More!