एक अधूरी तलाश's image
110K

एक अधूरी तलाश

बुलबुला ही तो हूं

हर क्षण अनंतर

बहती अविरल

जीवन गंगा का

लेकर उभरा रंग

रूप अनगिनत

बहता चालू अध्वंगा सा


है वर्षों की ये काल यात्रा

उस सागर की तलाश में,

हूं अतृप्त, और जो पूरी

कर दे प्यास एक श्वास में


मेरा होना ही प्यास है,

दुख है , संघर्ष है ,

सुख की झुटी आस है

इस यात्रा में अर्जित भले

या बुरे सब संस्कार पास है

कलकत्ता व

Read More! Earn More! Learn More!