किसानों की करुणा भरी कहानी's image
Poetry3 min read

किसानों की करुणा भरी कहानी

KAVI MANOJ PRAVEENKAVI MANOJ PRAVEEN June 7, 2023
Share0 Bookmarks 63639 Reads1 Likes
देश में आज किसानों की
यह करुणा भरी कहानी है
अन्न के दाता होकर भी
इन्हें भूखे रात बितानी है

दिनभर खेतों में रह करके
ये कड़ी धूप में तपते हैं
खेतों में पानी देने को
ये सर्द रात में जगते हैं
रातों में ठंड से कांप कांप
इनको सुख चैन गंवानी है

देश में आज किसानों की
यह करुणा भरी कहानी है

असमय बारिश की बूंदे
जब धरती पर आ गिरती हैं
धनवानों के चेहरे खिलते
कृषको की छाती फटती है
फसलें सब चौपट हो जाती
आंखों से बहते पानी है

देश में आज किसानों की
यह करुणा भरी कहानी है

ये अपने अन्न के दानों का
सही दाम भी ना पाते
इसी अन्न को बेच बेच
वो साहूकार हैं बन जाते 
सरकारी सुविधाओं में
होती हालाकानी है

देश में आज किसानों की
यह करुणा भरी कहानी है

बैंकों से मिलता कर्ज नहीं
जूते घिस घिस थक जाता है
कृषि लोन के चक्कर में
बैंको के धक्के खाता है
लोन उन्हीं को मिलता है
जो होते खानदानी है

देश में आज किसानों की
यह करुणा भरी कहानी है

गांवो में ये रह कर के
जीवन भर खेती करते हैं
जो कर्ज अगर ये ले लेते
नहीं जीवन में भर सकते हैं
कर्ज़ो में ही डूब डूब
इनको जान गंवानी है

देश में आज किसानों की

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts