व्यथा's image
Share0 Bookmarks 228729 Reads1 Likes
तेरी मेरी 
व्यथा एक सी
ऐ पिंजरे के पंछी
आ तुझको मैं 
आज़ाद कर दूँ 
हर बंधन से 
मुक्त कर दूँ 

जब जी चाहे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts