वैरागी मन's image
Share0 Bookmarks 62154 Reads0 Likes

मन बैरागी हुआ है

एकांतवासी हुआ है

पंछी संग उड़ते उड़ते

क्षितिज के पार गया है


न जाने कब लौटना हो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts