ताबीर's image
Share0 Bookmarks 60626 Reads0 Likes

तेरी झील सी दो आँखों में

ख्वाबों की बेशुमार कश्तियाँ हैं

मैं पतवार बनकर ख्वाबों की <

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts